देशभर में बप्पा का विसर्जन आज, बड़ी प्रतिमाओं को जुलूस के साथ ले जा रहे श्रद्धालु,लालबाग के राजा का होगा शाही विसर्जन

लोकमतसत्याग्रह/आज अनंत चतुर्दशी है। 31 अगस्त से विराजमान गणेशजी को विदा करने का दिन। इन 10 दिनों में त्यौहार की रौनक हर राज्य, शहर और हर घर में रही। बप्पा के आने के बाद से ही बच्चे हों या बड़े-बूढ़े सभी के चेहरे पर एक अलग ही खुशी नजर आती है। रोज उनकी पूजा करना, प्रसाद वितरण करना, पंडालों में अगल-अलग कार्यक्रम होना, लेकिन जैसे ही बप्पा को विदा करने का दिन आता है, एक उदासी सा माहौल छा जाता है और उनके अगले वर्ष जल्दी आने की कामना की जाती है।

वैसे तो हर राज्य में ये उत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन महाराष्ट्र में इस पर्व का अलग ही महत्व है। यहां बप्पा के आने के बाद से ही हर शहर हर घर में खुशी तो होती ही है, साथ ही पूरे राज्य में भारी भीड़ उमड़ती है। गणेश जी की बड़ी-बड़ी मूर्तियां विराजमान की जाती हैं। जुलूस निकाले जाते हैं। ये खुशहाल नजारा बप्पा के विराजमान होने से लेकर विसर्जित होने तक रहता है।

क्यों करते हैं गणेश विसर्जन
काशी के ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट बताते हैं कि गणेश जी ने लगातार 10 दिनों तक महाभारत की रचना की थी, जिससे उनका शरीर तपने लगा था, तब वेद व्यास जी उनको एक जल स्रोत के पास ले गए और वहां पर उनको जल में स्नान कराया। इससे गणेश जी को बहुत आराम मिला। उस दिन अनंत चतुर्दशी थी। तब से इस तिथि पर गणेश जी का विसर्जन होने लगा। धार्मिक मान्यता ये भी है कि विधि पूर्वक इनका विसर्जन करने से साल भर भक्तों के घर में कोई संकट नहीं आता है।

देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में गणेशोत्सव की काफी धूम रहती है. इस दौरान मुंबई पुलिस भी सुरक्षा को लेकर सतर्क रहती है. पुलिस का कहना है कि उन्होंने शुक्रवार को गणेश चतुर्थी के समापन पर मूर्ति विसर्जन के लिए पर्याप्त सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया है. मुंबई पुलिस के ज्वाइंट सीपी (लॉ एंड ऑर्डर) विश्वास नांगरे पाटिल का कहना है कि ट्रैफिक व्यवस्था पर नजर रहेगी और कानून-व्यवस्था बनाए रखने की तैयारी भी की गई है देश की राजधानी दिल्ली में भी काफी बड़ी संख्या में लोग और समितियां गणपति विसर्जन की तैयारियों में हैं. प्रशासन द्वारा सुरक्षा के सारे इंतजाम किए जा चुके हैं. हालांकि बीते रविवार को भी लोगों ने गणपति का विसर्जन किया है. गौरतलब है कि यमुना में 2019 से ही मूर्ति विसर्जन पूरी तरह से प्रतिबंधित है और विसर्जन करने पर 50 हजार रुपए का जुर्माना भी है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s