पवित्र संगम की भूमि :- प्रयागराज

प्रयाग को तीर्थराज कहा जाता है और सातों पुरियां इसकी रानियां कही जाती है। इसकी गणना भारत के प्राचीनतम तीर्थ स्थानों में की जाती है। यहां गंगा, यमुना और सरस्वती नदियों का संगम है। यहां 12 वर्ष में कुंभ मेला लगता है। 12 वर्ष में जब बृहस्पति वृष राशि में और सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते हैं, तभी प्रयाग में कुंभ मेला लगता है। कुंभ से छठे वर्ष अर्धकुंभी मेला लगता है।

माहात्म्य

प्रयाग में गंगा-यमुना के संगम में स्नान करके प्राणी पापों से मुक्त हो जाता है और स्वर्ग का अधिकारी हो जाता है। पद्म पुराण के अनुसार जैसे ग्रहों में सूर्य और तारों से चंद्रमा श्रेष्ठ है, वैसे ही तीर्थों में प्रयाग सर्वोत्तम है। यहां के किले में एक अक्षयवट या कल्पवृक्ष है। उसके दर्शन मात्र से ब्रह्महत्या का पाप भी नष्ट हो जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस अक्षय वट के पत्ते पर भगवान विष्णु शयन करते हैं। माघ मास में जो व्यक्ति प्रयाग में स्नान कर लेता है, उसके पुण्य-फलका शब्दों में वर्णन नहीं किया जा सकता।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

स्कंद पुराण की कथा के अनुसार आरोग्य प्राप्ति के लिए देव और दानवों ने समुद्र मंथन किया था, जिससे अमृत प्राप्त करके उससे आरोग्य प्राप्त किया जाए। समुद्र-मंथन से प्राप्त अमृत की कुछ बूंदे यहां भी गिरी थी। इसलिए इस स्थान का महत्व बहुत अधिक हो गया। प्राचीन काल में यहां अनेक यज्ञ हुए थे, अतः इसका नाम प्रयाग पड़ा। इस नगरी को अनेक राजवंशों की राजधानी बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। मुस्लिम काल में कई मुस्लिम शासकों ने प्रयाग को अपना मुख्य केंद्र बनाया। इस स्थल पर प्राचीन और आधुनिक काल में भी अन्य धर्म सम्मेलन, सत्संग आदि  आयोजित किए जाते रहे हैं।

तीर्थ के दर्शनीय स्थल

इस नगर में अनेक दर्शनीय स्थल हैं, लेकिन सभी का वर्णन संभव नहीं है। इनमें कुछ मुख्य का वर्णन निम्न प्रकार है:

. संगम स्थान                                                                                                                                              जहां गंगा जी का शीतल जल यमुना जी के निर्मल जल से मिलता है, उसे संगम के नाम से जाना जाता है। इसे त्रिवेणी भी कहा जाता है, जिसके अनुसार यहां तीन धाराओं का संगम होना चाहिए, लेकिन प्रत्यक्ष में यहां गंगा, यमुना के रूप में दो नदियों का ही संगम है। तीसरी धारा सरस्वती की थी, जो अब लुप्त हो गई है, लेकिन ऐसा माना जाता है कि उसका प्रभाव अब भी यहां देखा जा सकता है, इस प्रकार से सरस्वती को लुप्त नहीं बल्कि  गुप्त माना गया है। संगम में स्नान नौका द्वारा ही हो सकता है, क्योंकि वहां पक्के घाट नहीं है। स्नान के लिए वहां पंडे अपनी चौकिया तट पर तथा जल के भीतर भी लगाए रखते हैं।

. प्राचीन किला                                                                                                                                            संगम से लगा हुआ ही एक प्राचीन किला है, जिसमें भारतीय सेना के कार्यालय है, इस किले में ही अक्षय वट या कल्पवृक्ष है, जिसका दर्शन यात्री निश्चित समय में ही कर सकते हैं।

. हनुमान मंदिर                                                                                                                                          किले के पास हनुमान जी का मंदिर है। यहां भूमि पर लेटी हुई हनुमान जी की विशाल मूर्ति है। वर्षा-ऋतु में बाढ़ आने पर यह स्थान जलमग्न हो जाता है।

. कल्पवास                                                                                                                                                      यह एक शिविर का जीवन है। यात्री माघ मास में प्रयाग के संगम स्थल पर झोपड़ियों में रहकर नियमित स्नान का पुण्य प्राप्त करते हैं। इसे ही कल्पवास कहते हैं।

. शंकर मंडप                                                                                                                                              संगम क्षेत्र में दक्षिण शैली में बना यह एक आकर्षक मंदिर है। इसके प्रथम खंड में मीनाक्षी का मंदिर है। गर्भ ग्रह में आदि शंकराचार्य के जीवन की घटनाएं उकेरी गई हैं। दूसरे खंड में तिरुपति के वेंकटेश्वर बालाजी के दर्शन होते हैं। तीसरे खंड में 1008 मुख वाला शिवलिंग स्थापित है।

. ललिता देवी                                                                                                                                            प्रयाग में 51 शक्तिपीठों में से 1 शक्तिपीठ है। यहां सती की हस्तांगुली  गिरी थी। यहां की शक्ति ललिता देवी हैं तथा भव नामक भैरव है। प्रयाग में ललिता देवी की दो मूर्तियां हैं।

आसपास के तीर्थ

१. दुर्वासा आश्रम                                                                                                                                                               २. लाक्षागृह                                                                                                                                                                           ३. सीतामढ़ी                                                                                                                                                                     ४. राजापुर                                                                                                                                                                              ५. एंद्री देवी                                                                                                                                                                           ६. श्रृंगवेरपुर                                                                                                                                                                                  ७. कड़ा

यात्रा मार्ग

वायु मार्ग हेतु इलाहाबाद (प्रयाग) मैं कोई हवाई अड्डा नहीं है । वाराणसी जो यहां से 137 किलोमीटर दूर है वहां पर हवाई अड्डा है ‌ वहां से सड़क मार्ग द्वारा यहां पहुंचा जा सकता है। उत्तर रेलवे का यह एक बहुत बड़ा जंक्शन है। यहां देश के प्रमुख नगरों से रेलों का आना जाना लगा रहता है। सड़क मार्ग से यह स्थान उत्तर प्रदेश के प्रत्येक बड़े नगर से जुड़ा हुआ है। अन्य प्रांतों से भी बसें यहां तक आती जाती रहती हैं।

ठहरने के स्थान

यहां ठहरने के लिए धर्मशालाओं के अतिरिक्त अच्छे होटल व अतिथि गृह भी हैं। पर्यटक अपनी सुविधानुसार कहीं भी  ठहर सकते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s